विकास का अर्थ एवं परिभाषा क्या है? Vikas ka arth aur paribhasha kya hai?

Share:

विकास का अर्थ एवं परिभाषा - Meaning and Definition of Development

विकास शरीर की अनेक संरचनाओ तथा कार्यों को संगठित करने की वह जटिल प्रक्रिया होती है जिसमें विभिन्न आंतरिक शारीरिक रचना से संबंधित परिवर्तन और उससे उत्पन्न मनोवैज्ञानिक प्रक्रिया एकत्रित होकर कार्य करने के योग्य बनाती है| विकास को प्रगतिशील परिवर्तन के रूप में परिभाषित किया जाता है| व्यक्ति के विभिन्न गुणों, योग्यताओं का विकास उनकी शारीरिक परिपक्वता और अधिगम पर निर्भर करती है| वह अनुभवों के आधार पर नई क्रियाएं सीखता है और पुरानी क्रियाओं में संशोधन करता है|

Shaffer and Kipp 2007 ( शैफ़र और किप ) के अनुसार: " विकास का अर्थ व्यक्ति में गर्भधारण से लेकर मृत्यु के बीच घटित होने वाली घटना, क्रमबद्, निरंतरताओ तथा परिवर्तनों से है| "

Hurlock 1975 ( हरलॉक ) के अनुसार: " विकास शब्द से तात्पर्य प्रगामी परिवर्तनों की ऐसी श्रृंखला से है जो परिपक्वता एवं अनुभव के कारण क्रमबद्ध प्रतिमान के रूप में उत्पन्न होते हैं| "

Labarba 1981 ( लाबरबा ) के अनुसार: " विकास का अर्थ ऐसे परिपक्व परिवर्तनों से हैं जो प्राणी के जीवन में समय-समय पर प्रदर्शित होते हैं| "

इस प्रकार उपयुक्त विभिन्न विद्वानों द्वारा दी गई परिभाषाओं के आधार पर कहा जा सकता है कि विकास एक व्यापक शब्द है जो गर्भधारण के साथ ही प्रारंभ होती है एवं आजीवन किसी न किसी रूप में ( परिलक्षित ) दिखाई पड़ती है|

No comments

We appreciate your comment! You can either ask a question or review our blog. Thanks!!