Lal Bahadur Shastri Quotes in Hindi and English

लाल बहादुर शास्त्री भारत देश के द्वितीय प्रधानमंत्री थे। इस पोस्ट में हमलोग लाल बहादुर शास्त्री के महत्वपूर्ण विचारों को जानने वाले हैं

1. जय जवान, जय किसान।

1. Jai jawan jai kisan.

2. आज़ादी की रक्षा केवल सैनिकों का काम नही है, पूरे देश को मजबूत होना होगा.

2. Protecting freedom is not the work of soldiers only, the whole country has to be strong.

3. हम अपने देश के लिए आज़ादी चाहते हैं, पर दूसरों का शोषण कर के नहीं, ना ही दूसरे देशों को नीचा दिखाकर, मैं अपने देश की आजादी ऐसे चाहता हूँ कि अन्य देश मेरे आजाद देश से कुछ सीख सकें, और मेरे देश के संसाधन मानवता के लाभ के लिए प्रयोग हो सकें.

3. We want freedom for our country, but not by exploiting others, nor by humiliating other countries, I want the freedom of my country in such a way that other countries can learn something from my free country, and my country's resources are humanity can be used for the benefit of

4. जो शासन करते हैं उन्हें देखना चाहिए कि लोग प्रशासन पर किस तरह प्रतिक्रिया करते हैं. अंततः जनता ही मुखिया होती है।

4. Those who govern should see how people react to the administration. Ultimately, the public is the head.

5. यदि मैं एक तानाशाह होता तो धर्म और राष्ट्र अलग-अलग होते. मैं धर्म के लिए जान तक दे दूंगा. लेकिन यह मेरा नीजी मामला है। राज्य का इससे कुछ लेना देना नहीं है। राष्ट्र धर्मनिरपेक्ष कल्याण, स्वास्थ्य, संचार, विदेशी संबंधो, मुद्रा इत्यादि का ध्यान रखेगा, लेकिन मेरे या आपके धर्म का नहीं. वो सबका निजी मामला है।

5. If I were a dictator, religion, and nation would be separate. I will even give my life for religion. But this is my personal matter. The state has nothing to do with it. The nation will take care of secular welfare, health, communication, foreign relations, currency etc., but not my or your religion. It is everyone's personal matter.

6. भ्रष्टाचार को पकड़ना बहुत कठिन काम है, लेकिन मैं पूरे जोर के साथ कहता हूँ कि यदि हम इस समस्या से गंभीरता और दृढ संकल्प के साथ नहीं निपटते तो हम अपने कर्तव्यों का निर्वाह करने में असफल होंगे.

6. Tackling corruption is a very difficult task, but I say with full emphasis that if we do not deal with this problem with seriousness and determination, we will fail in our duty.

7. यदि कोई एक व्यक्ति को भी ऐसा रह गया जिसे किसी रूप में अछूत कहा जाए तो भारत को अपना सर शर्म से झुकाना पड़ेगा.

7. If even a single person remains who can be called untouchable in any form, then India will have to hang its head in shame.

8. हम सिर्फ अपने लिए ही नहीं बल्कि समस्त विश्व के लिए शांति और शांतिपूर्ण विकास में विश्वास रखते हैं।

8. We believe in peace and peaceful development not only for ourselves but for the whole world.

Post a Comment

0 Comments