Rama Shabd Roop in Sanskrit with hindi meaning - रमा शब्द रूप संस्कृत में हिंदी अर्थ के साथ

रमा शब्द को संस्कृत में हिंदी के ' रमा ' शब्द के लिए और अंग्रेजी में ' गर्ल ( girl ) ' के लिए उपयोग में लाया जाता है

रमा शब्द (आकारान्त) स्त्रील्लिंग संज्ञा शब्द है। सभी आकारान्त स्त्रील्लिंग संज्ञाओ के रूप इसी प्रकार बनाते है। जैसे- लता, बालिका, सुता, तनुजा, कन्या, अबला, महिला, वामा, अजा, रमा, धरा, वनिता, सेना, सीता, गीता, माया, गंगा, यमुना, तारा, निशा, आशा, दया, कृपा, छाया, शिला, अश्वा, पूजा, चिन्ता, आज्ञा, भाषा, माला, लज्जा, कविता, सभा, उमा, सुधा, विद्या आदि। परंतु ‘अम्बा’ के सम्बोधन में ‘हे अम्ब होता है और जरा के रूप कुछ भिन्न होते है।

रमा शब्द के रूप सातों विभक्ति में - Rama Shabd Roop in Sanskrit

रमा शब्द के रूप सातों विभक्ति में एवं तीनों वचनों में नीचे दिये गये हैं:

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा रमा रमे रमाः
द्वितीया रमाम् रमे रमाः
तृतीया रमया रमाभ्याम् रमाभिः
चतुर्थी रमायै रमाभ्याम् रमाभ्यः
पंचमी रमायाः रमाभ्याम् रमाभ्यः
षष्ठी रमायाः रमयोः रमाणाम्
सप्तंमी रमायाम् रमयोः रमासु
सम्बोधन रमे रमे रमाः

रमा शब्द के रूप सातों विभक्ति में हिंदी अर्थ के साथ - Rama Shabd Roop in Sanskrit with hindi meaning

रमा शब्द के रूप सातों विभक्ति में एवं तीनों वचनों में, हिंदी अर्थ के साथ नीचे दिये गये हैं:

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा रमा (रमा, रमा ने) रमे (दो रमाऍ, दो रमाओं ने) रमाः (अनेक रमाऍ, अनेक रमाओं ने)
द्वितीया रमाम् (रमा को) रमे (दो रमाओं को)) रमाः (अनेक रमाओं को)
तृतीया रमया (रमा से, रमा के द्वारा) रमाभ्याम् (दो रमाओं से, दो रमाओं के द्वारा) रमाभिः (अनेक रमाओं से, अनेक रमाओं के द्वारा)
चतुर्थी रमायै (रमा के लिए, रमा को) रमाभ्याम् (दो रमाओं के लिए, दो रमाओं को) रमाभ्यः (अनेक रमाओं के लिए, अनेक रमाओं को)
पंचमी रमायाः (रमा से) रमाभ्याम् (दो रमाओं से) रमाभ्यः (अनेक रमाओं से)
षष्ठी रमायाः (रमा का, रमा के, रमा की रमयोः (दो रमाओं का, दो रमाओं के, दो रमाओं की) रमाणाम् (अनेक रमाओं का, अनेक रमाओं के, अनेक रमाओं की)
सप्तंमी रमायाम् (रमा में, रमा पर) रमयोः (दो रमाओं में, दो रमाओं पर) रमासु (अनेक रमाओं में, अनेक रमाओं पर)
सम्बोधन रमे (हे रमा!) रमे (हे दो रमाओं!) रमाः (हे अनेक रमाओं!)

अन्य शब्द रूपों  का संग्रह -

Post a Comment

0 Comments